Thursday, January 5, 2017

जॉन बर्जरः वक़्त को टटोलती निगाह - शिवप्रसाद जोशी

John Berger (5 November 1926 – 2 January 2017)

अरुंधति रॉय 2009 के दरम्यान जॉन बर्जर से मिलने गई थीं. बर्जर ने बस उनसे पूछा कि तुम अभी अपना कम्प्यूटर खोलो और अपना लिखा कुछ फ़िक्शन मुझे पढ़कर सुनाओ. अरुंधति के मुताबिक, “ऐसा पूछ सकने वाला वो दुनिया का शायद अकेला शख़्स था, मैंने एक छोटा सा पीस पढ़कर सुनाया जिसे सुनकर बर्जर ने लगभग आदेश देते हुए कहा, तुम फ़ौरन दिल्ली लौटो और ये किताब पूरी करो.”इस धक्के के क़रीब आठ साल बाद अब  2017 में बहुप्रतीक्षित उपन्यास आ रहा है अरुंधति का जिसका नाम है- “द मिनिस्ट्री ऑफ़ अटमोस्ट हैपीनेस.” अगर जॉन बर्जर न होते तो शायद ये उपन्यास न आ पाता या पता नहीं कब तक आ पाता जिसका बेसब्री से इंतज़ार अरुंधति के पाठक प्रशंसक एक्टिविस्ट करते रहे हैं जो उनके लेखन के ताप, उद्विग्नता और एक्टिविज़्म के साथ साथ बड़े हुए या निखरे हैं.
अरुंधति के साथ साथ पंजाबी कवि और सार्वजनिक बुद्धिजीवी, चिंतक अमरजीत चंदन का ज़िक्र करना यहां ज़रूरी है. उनकी कविता पुस्तक आ गयी है, “सोनाटा फ़ॉर फ़ोर हैंड्स.” अमरजीत ब्रिटेन में रहते हैं और यूरोप-अमेरिका-एशिया के साहित्यिक-सांस्कृतिक हल्कों में जानेमाने हैं. उनकी कविताओं के पहले फ़ुललेंथ कलेक्शन की एक सबसे ख़ास बात ये है कि इसकी भूमिका जॉन बर्जर ने लिखी है जो अमरजीत की कविता और विचार के मुरीदों में शामिल हैं. अगर आप यूट्यूब पर जाने की ज़हमत उठाएं तो वहां आपको बर्जर, लसन- गार्लिक (लहसुन) कविता का पाठ करते दिखेंगे. ये अमरजीत चंदन की एक प्रतिनिधि कविता है. बर्जर, चंदन की कविता के बारे में कहते हैं कि, “उनकी कविता अपने श्रोताओं या पाठकों को समयहीनता के विस्तार में ले जाती है. समय वहां एक कामदार पर्दे की तरह है. उनका कविता अभ्यास बताता है कि दिक् काल की चार विमाओं, जिन्हें हम आदतन पहचानते हैं, के अलावा और भी विमाएं हैं.”
ये दो ज़िक्र लाने का मक़सद ये दिखाने का था कि 90 साल की भरीपूरी उम्र के बाद इस दुनिया से रुख़्सत हुए जॉन बर्जर का देखने का तरीक़ा कितना अलग और ख़ास था. ये कोई लेखकीय और अप्रतिम या दैवीय विशिष्टता नहीं थी जो बर्जर को हासिल थी, ये एक बहुत ही साधारण जन की नज़र थी जो पिछली 20वीं सदी और इधर 21वीं सदी के शुरुआती डेढ़ दशकों में तेज़ी से परिदृश्य से धकेली जाती रही. इतना तीव्र भूमंडलीकरण और नया पूंजीवादी हमला हुआ है (ज़ाहिर है फ़ाशीवाद के साथ ये गठजोड़ पूरी रंगत में है.)
1926 में ब्रिटेन में पैदा हुए बर्जर कला की पढ़ाई पूरी कर मार्क्स की ओर मुड़े. अपने मशहूर उपन्यास “जी” के लिए उन्हें बुकर पुरस्कार भी मिला और इनाम की आधा रकम उन्होंने कैरेबिया के आंदोलनकारी समूह ब्लैक पैंथर्स को दान कर दी. शेष राशि अपनी एक वृहद रिसर्च परियोजना में खर्च की. 1962 में लंदन छोड़ा और फ़्रांस के पेरिस के पास क्विऩज़ी नाम के देहात में 1974 में अपनी रिहायश बनाई, वहीं से लिखते पढ़ते सोचते और देखते रहे. वहां के किसानों कामगारों के साथ काम किया, घुलेमिले. वहीं पर उन पर एक वृहद वृत्तचित्र बनाया गया, “द सीज़न्स इन क्विनज़ी” के नाम से टिल्डा स्विंटन और कोलिन मैककेब की बनाई चार अलग अलग छोटी फ़िल्मों का एक सेट है. इस फ़िल्म का हमें इंतज़ार है. कुछ लोग शायद देख भी चुके हों. सात महीने पहले इसका ट्रेलर जारी हुआ. अद्भुत दृश्य हैं. इसी में लगभग मंत्र की तरह जॉन बर्जर ने कहा था, अगर मैं किस्सागो (स्टोरीटेलर) हूं तो इसलिए कि मैं सुनता हूं.
फ़िल्म देखने के बाद ही पता चल सकता है कि देखने पर ज़ोर देने वाले बर्जर ने सुनने पर ज़ोर आख़िर किन संदर्भों में दिया होगा. एक अनुमान ये है कि सुनते हुए को भी देखने की बात वो कर रहे हों, बात अटपटी लग सकती है कि लेकिन आधुनिक क्लासिक्स में शुमार बर्जर की “द वेज़ ऑफ़ सीइंग” पढ़ने के बाद आपको ये बात शायद उतनी अटपटी न लगे. इसलिए इसे पढ़ने से पहले बीबीसी की 1972 की वो ऐतिहासिक सीरिज़ देखना भी महत्त्वपूर्ण है जिसके बाद ये किताब आ गई और जॉन बर्जर न सिर्फ़ कला आलोचना में बल्कि एक राजनैतिक बुद्धिजीवी के रूप में दुनिया में मान लिए गए. अरुंधति रॉय कहती हैं, “जॉन बर्जर हमें सिखाते हैं कि कैसे सोचना है. कैसे महसूस करना है. कैसे चीज़ों को टकटकी लगाए देखते रहना है जब तक हम ये देख लें कि जो हम सोच रहे थे वो वहां नहीं है. सबसे बढ़कर वो हमें सिखाते हैं कि विपत्ति के हालात में हम कैसे प्रेम करें. वो मास्टर हैं.”
90वें साल के अवसर पर उन्हें सलाम करते हुए दो किताबें आईं. इनके विमोचन के लिए वो मौजूद नहीं हैं. “द लॉंग व्हाइट थ्रेड ऑफ़ वर्ड्स” जिसमें उनके चाहने वाले विश्व कवियों की रचनाएं शामिल हैं. इस किताब की संपादक त्रयी में अमरजीत चंदन, गैरेथ इवांस और यास्मीन गुनारत्नम हैं. दूसरी किताब है,  “अ जार ऑफ़ वाइल्ड फ़्लावर्स” जिसमें नामचीन लेखकों के निबंध शामिल हैं. इसके संपादक अमरजीत चंदन और यास्मीन गुनारत्नम हैं. 2016 की ये अंग्रेज़ी किताबें विकट ऑनलाइन बाज़ार में हैं, हिंदी एक बहुत दूर का बिंदु है.
“वेअज़ ऑफ़ सीइंग” को कला, संस्कृति और राजनीति के अंर्तसंबंधों पर एक दस्तावेजी किताब माना जाता है. बर्जर की दृष्टि के निर्माण में इन तीनों अवधारणाओं का योगदान है. बर्जर ने कला के स्थापित आलोचना कर्म और देखने के पैमानों को भारी चोट पहुंचाई. उन्होंने अपने अकाट्य तर्कों के सहारे साबित किया कि एक पेंटिग क्योंकर एक बुर्जुआ गतिविधि है और क्योंकर वो अभिजात हितो और स्वार्थों की हिफ़ाज़त करती हुई रह जाती है. बर्जर ने देखने के तरीके से इलीटिज़्म का चश्मा उतारने को कहा. उन्होंने ये नहीं बताया कि आप इस तरह किसी चित्र को देखो या इस तरह न देखो. उन्होंने बस ये बताया कि आप कैसे देखो, क्या देखो. मिसाल के लिए स्त्री शरीर की नग्न चित्र परंपरा पर बर्जर ने ये कहकर हमला किया कि ये सिर्फ मर्दवादी यौनेच्छा की भूख है. वो दर्शक के सामने पेश की गई स्त्री की देह है. उन्होंने कला में नेकड और न्यूड के फ़र्क को समझाया.
अपनी इसी अवधारणा को बर्जर कला से आगे भूमंडलीकृत पूंजीवाद की अन्य विडम्बनाओं और विज्ञापन और उपभोक्तावाद की आततायी संस्कृति तक ले गए और बताया कि स्त्री देह का जो चित्रण कला में था वो विज्ञापन में उस भूख को एक नये विस्तार की ओर ले गया. ये एक भीषण चाक्षुष अनुभव से भीषण उपभोग के अनुभव की ओर जाने की तीव्र फ़िसलन थी. इस तरह बर्जर ही हमें सबसे पहले ये बताते हैं कि कलाएं पहले अपने प्रदर्शन में फिर अपने निरूपण में और फिर अपने आगामी इस्तेमालों में कितनी मनुष्यविरोधी, अमानवीय और पतन की ओर ले जाने वाली हो सकती हैं.
लेकिन बर्जर सिर्फ़ इस नैतिक विचलन को नोट करने वाले या उस पर चोट करने वाला या उससे सावधान करने वाले चिंतक नहीं थे, उन्होंने कला को एक मानवीय और एक मार्क्सवादी सौंदर्यबोध के रास्ते से समझने के तरीक़े भी समझाए हैं. उनके पास बदलाव के टूल्स थे. उन्होंने दुनिया को बदलने के लिए सांस्कृतिक प्रतीकों को मनुष्य चेतना से जोड़ने के तरीक़े भी बताए. उन्होंने बताया है कि कला से हम कैसे राजनीति की ओर रुख़ कर सकते हैं. हम कैसे कला को मानवीय चेष्टा का हथियार बना सकते हैं. भूमंडलीय पूंजीवाद के प्रतीकों की बर्जर की प्रखर छानबीन ही हमें और जागरूक और सचेत बनाती है.  
जॉन बर्जर ने कहा था, “आधुनिक विश्व में जहां राजनीति की वजह से हर घंटे हज़ारों लोग मारे जाते हैं, वहां कोई भी लेखन प्रामाणिक और विश्वसनीय नहीं होगा अगर वो राजनैतिक जागरूकता और सिद्धांतों से सचेत लेखन न हो.” आख़िरकार जॉन बर्जर एक उपयोगी द्वंद्व के हवाले से ही कह देते हैं और हमें भी उसके साथ छोड़ देते हैं कि, जो हम देखते हैं और जो हम जानते हैं, इनके बीच का संबंध कभी निर्धारित नहीं होता है. हर शाम हम सूरज को डूबता देखते हैं. हम जानते हैं कि पृथ्वी उससे दूर जा रही है. फिर भी ये ज्ञान और ये व्याख्या, हमारे देखने को और उस दृश्य को मुकम्मल नहीं बना पाती.”

3 comments:

सुशील कुमार जोशी said...

सुन्दर पोस्ट।

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ’प्रकाश पर्व की शुभकामनाओं सहित ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

kuldeep kunal said...

बर्जर ने देखने के तरीके से इलीटिज़्म का चश्मा उतारने को कहा। बर्जर ने कला के स्थापित आलोचना कर्म और देखने के पैमानों को भारी चोट पहुंचाई है ये बातें मालूम होना भर अपने आप मे एक मुक़्कमल किताब पढ़ लेने जैसा अनुभव है। थोड़ी शर्म के साथ ये स्वीकार करता हूं कि अब तक मैने जॉन बर्जर को नहीं पढ़ा है किंतु अवश्य पढूंगा।

स्त्री देह के देखने के फ़र्क़ को कला से जोड़ने की दृष्टि और स्त्री-देह को कला के नाम पर अपमानित करने की साज़िश को जॉन बर्जर बेनक़ाब करते नज़र आते हैं। ऐसे समय में जब बुद्धि पर हमला है वे बोध की बात करते हैं और सौंदर्यदृष्टि में पैदा हो जाने वाले ख़तरों की।