Saturday, April 12, 2008

नेपाल में सुर्ख सवेरा



यूँ ही हमेशा उलझती रही है ज़ुल्म से खल्क
न उनकी रस्म नई है, न अपनी रीत नई
यूँ ही हमेशा खिलाये हैं हमने आग में फूल
न उनकी हार नई है, न अपनी जीत नई
(फैज़)

3 comments:

Anonymous said...

See Please Here

Arun Aditya said...

यूँ ही हमेशा खिलाये हैं हमने आग में फूल
badhaaai.

Anonymous said...

नेपाल की क्रांतिकारी जनता को लाल सलाम। फैंज भले ही पाकिस्तान में वो न कर पाये जो आज नेपाल में हो रहा है लेकिन
"न उनकी हार नई है, न अपनी जीत नई"।
पाकिस्तान व हिन्दोस्ता में भी सुर्ख सवेरे की आस में ...