Monday, August 9, 2010

विभूति नारायण राय की टिप्पणी पर प्रो. इलिना सेन


इस बात से मुझे गहरा दुख पहुँचा है कि हमारे कुलपति श्री विभूति नारायण राय महिला लेखकों और महिलावादी विमर्श पर की गई अपनी टिप्पणी को लेकर अशोभनीय विवाद में उलझ गए हैं. एक सार्वजनिक हस्ती के तौर पर श्री राय को इस बात का कहीं ज्यादा ध्यान रखना चाहिए था कि हिंदी महिला लेखकों द्वारा उठाये गए विषयों से उनकी असहमतियाँ और उन पर उनकी टिप्पणियाँ संसदीय भाषा की सीमाओं में बनी रहें.

आज महिलावादी विमर्श सत्ता की संरचनाओं और संबंधों को चुनौती देने वाले सर्वाधिक शक्तिशाली बौद्धिक विमर्शों में से एक है, और इसमें समाज और राजनीति को देखने के पूर्णतः अभिनव तरीके तैयार करने का सामर्थ्य वाकई है. यह विरोधाभास ही है कि इस विमर्श की शुरुआत इस समझ के साथ हुई थी कि हम जैविक विभेदों के सामाजिक ढाँचे तक अपने आपको सीमित नहीं रखेंगे. इसलिए यह कहना कि कुछ लेखिकाओं के लिए महिला मुक्ति का अर्थ मात्र 'दैहिक' मुक्ति और बेवफाई के उत्सव तक सिमट कर रह गया है, महिलावादी विद्वत्ता की गहराई और विस्तार को नज़रअंदाज़ करता है. अलग अलग लोगों ने जिन विषयों को अपने सृजनात्मक लेखन के लिए चुना यह उनका विशेषाधिकार है. फिर भी हमें यह मानना होगा कि व्यक्तिगत जीवन और अनुभवों से जुड़े मुद्दों पर बात करने में पुरुषों के मुकाबले महिला लेखकों ने कहीं ज्यादा ईमानदारी और स्पष्टवादिता दिखाई है. उनके लेखन ने बहुत से संवेदनशील क्षेत्रों को चर्चा में लाया है जिसमें लैंगिकता का मुद्दा भी शामिल है . साहित्यालोचना के लोकतांत्रिकरण के किसी भी प्रयास में इस बात का उपहास नहीं बल्कि सराहना की जानी चाहिए. बहुत कर के इस तरह की टिप्पणियाँ महिलाओं की लैंगिकता को लेकर पुरुषों और पितृसत्तात्मक समाज में हमेशा से रहे डर और व्यग्रता की ही सूचक हैं.

महिला आन्दोलन एक राजनीतिक हलचल के तौर पर बहुत सारे मुद्दों और घटक-समूहों से सम्बद्ध रहता है और अन्य मुक्ति संघर्षों से हमेशा ही उसका करीबी नाता रहा है. एक अकादमिक विधा के तौर पर महिला अध्ययन इसी आन्दोलन से शक्ति ग्रहण करता है और एक गहन बौद्धिक विरासत महिला अध्ययन को बहुत सी विधाओं से प्राप्त हुई है जिनमें एक विधा हिंदी साहित्य भी है. इस विविधता और गहनता का भारतीय महिला अध्ययन संघ के "हाशियाकरण का प्रतिरोध: अधिपत्य का विरोध" विषय पर वर्धा में होने वाले राष्ट्रीय सम्मलेन में प्रतिबिंबित होना अपेक्षित है. मैं वर्धा विश्वविद्यालय समुदाय के सभी सदस्यों को इस सम्मलेन में हिस्सा लेने, बहसों में शामिल होने, और महिलावादी विमर्श वास्तव में क्या है यह जानने हेतु आमंत्रित करती हूँ.

इलिना सेन
वर्धा, 1 अगस्त, 2010

*************************************************************
(वक्तव्य की मूल अंग्रेजी प्रति नीचे दी जा रही है)
*************************************************************

I am deeply saddened that Shri VN Rai, our Vice Chancellor, has got embroiled in an unseemly controversy over his remarks on women writers and the feminist discourse. As a public figure, he should have taken far greater care to ensure that his remarks and differences with the themes that women writers in Hindi may have chosen to address, stayed within parliamentary limits.

The feminist discourse today is one of the most powerful intellectual discourses that challenges structures and relationships of power, and truly has the potential to develop entirely new ways of looking at society and politics. Paradoxically, it all began with the understanding that we would not be limited by the social construction of biological differences. Therefore , to say that for some writers women's liberation is reduced to 'bodily' liberation and a celebration of infidelity alone, ignores the depth and range of feminist scholarship. What individual creative writers chose to write about is their prerogative. However, we must recognize that by and large , women writers have shown far greater honesty and forthrightness in discussing issues relating to personal lives and experiences than men. Their writings have opened up for discussion many sensitive areas including issues of sexuality. In any attempt to democratize literary criticism, this should be appreciated, not ridiculed. In many ways comments like this are symptomatic of the fear and anxiety regarding women's sexuality that men and patriarchal society have always had.

The women’s movement as a political ferment deals with a large number of issues and constituencies and has always had a close relationship to other liberation struggles. Women’s studies as an academic discipline draws its strength from this movement and a deep intellectual heritage drawn from many disciplines, Hindi literature being only one of them. The forthcoming national conference at Wardha of the Indian Association of Women’s Studies on the theme “Resisting marginalization: challenging hegemonies” is expected to reflect this diversity and depth. I would invite all members of the Wardha University community to participate in the conference, join in the debates , and learn what the feminst discourse is actually about.


Ilina Sen
Wardha , 1 August, 2010.

3 comments:

Arvind Mishra said...

Very emphatic in content and style both ...Kudos!

चिट्ठाप्रहरी टीम said...

अच्छी प्रस्तुती के लिये आपका आभार ।

खुशखबरी

हिन्दी ब्लाँग जगत मे ब्लाँग संकलक चिट्ठाप्रहरी की शुरुआत कि गई है । आप सबसे अनुरोध है कि चिट्ठाप्रहरी मे अपना ब्लाँग जोङकर एक सच्चे प्रहरी बनेँ , यहाँ चटका लगाकर देख सकते हैँ

Sonal said...

khoobsurat ....

Meri Nayi Kavita par aapke Comments ka intzar rahega.....

A Silent Silence : Naani ki sunaai wo kahani..

Banned Area News : Aniston hits back at Fox News host for calling her 'destructive to society'